डिजिटल सुरक्षा : इंटरनेट बंद होने की स्थिति के दौरान

सीपीजे ने पाया है कि इंटरनेट शटडाउन (इंटरनेट बंद होने) होने से प्रेस स्वतंत्रता के लिए गंभीर परिणाम  होते हैं और पत्रकारों को प्रभावी ढंग से अपना काम करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। इंटरनेट बंद करने या उसकी पहुँच को सीमित करने का मतलब है कि मीडिया कर्मी किसी घटना के घटने के…

Read More ›

CPJ की ओर से भारतीय राज्यों के चुनावों पर काम कर रहे पत्रकारों के लिए सुरक्षा गाईड

पत्रकार सुरक्षा गाईड कई भाषाओं में उपलब्ध है न्यूयॉर्क, मार्च 8, 2021- असम, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और पुदुच्चेरी में होने जा रहे राज्यसभा चुनावों और उनसे पहले होने वाली गतिविधियों पर काम करने वाले संपादक, पत्रकार, और फ़ोटोजर्नलिस्ट्स के लिए कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स ने एक नई भारतीय चुनाव सुरक्षा गाईड प्रकाशित की है. …

Read More ›

भारतीय राज्य विधानसभा चुनाव 2021: पत्रकार सुरक्षा गाईड

भारत में मार्च, अप्रैल और मई 2021 में असम, केरल , तमिलनाडु, बंगाल और पुडुचेरी राज्यों में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं.  वह पत्रकार जो इन चुनावों पर रिपोर्टिंग करने जा रहे हैं उन्हें, शारीरिक हमलों, डराने की कोशिश, उत्पीड़न; इंटरनेट पर डराना, कोविड-19 संक्रमण, गिरफ़्तारी, नज़रबंदी, रिपोर्टिंग पर सरकारी प्रतिबंध, इंटरनेट पर रोक,…

Read More ›

Artwork: Jack Forbes

नागरिक अव्यवस्था एवं भीड़ भाड़ के बीच पत्रकारिता करने हेतु सीपीजे की परामर्शिका

भीड़ हिंसा या भीड़ के बीच पत्रकारिता खतरनाक हो सकती है, और हर साल पत्रकार इस तरह की घटनाओं में समाचार संकलन के दौरान घायल हो जाते हैं। जोखिम को कम करने के लिये : तैयार रहिये : समाचार संकलन की कार्य योजना पहले बनायें और यह सुनिश्चित करें कि आपके सेल फोन में पूरी…

Read More ›

टाईम्स आफ इंडिया समूह के मालिकों ने मीडिया पर नज़र रखने वाली वेबसाईट न्यूज़लॉन्ड्री पर १०० करोड़ का दावा ठोका

नयी दिल्ली, जनवरी, २९, २०२१ – कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (CPJ)  ने आज कहा कि भारतीय मीडिया समूह बेनेट, कोलमैन एवं कंपनी लिमिटेड (बीसीसीएल) समाचार वेबसाइट और मीडिया वॉचडॉग न्यूज़लॉन्ड्री के खिलाफ मानहानि का मुक़दमा करके अपनी स्वयं की अखंडता को कम कर रहा है, और उन्हें तुरंत मुकदमा वापस लेना चाहिये। न्यूज़लॉन्ड्री के सह-संस्थापक…

Read More ›

कानूनी बाधायें पत्रकारों की हत्या के मामलों को सुलझाने की प्रगति को विफल कर सकती है।

ग्लोबल इम्प्यूनिटी इंडेक्स ने उन देशों को चिन्हित किया है जहां पत्रकारों के हत्यारे मुक्त हो जाते हैं।  न्यू यॉर्क, अक्टूबर २८, २०२० – कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स द्वारा आज प्रकाशित एक नई रिपोर्ट में यह पाया गया है कि दुनिया भर में हो रहे पत्रकारों की हत्या के मामलों को कम करने की दिशा…

Read More ›

भारत में चुनाव: पत्रकारों की सुरक्षा के लिए दिशा-निर्देश

सीपीजे की इमर्जेंसी रिस्पॉन्स टीम ने चुनावी गतिवीधियों की रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों के लिए ऐसे दिशा-निर्देशों की एक सूची तैयार की है जिन्हें ध्यान में रखते हुए वे ख़ुद को सुरक्षित रख सकते हैं. इस सूची में संपादकों, पत्रकारों और फोटो पत्रकारों के लिए ऐसी सूचनाएं दी गई हैं जिनकी रोशनी में वे चुनाव…

Read More ›

सी पी जे सुरक्षा परामर्श : कोरोनावायरस के प्रकोप का कवरेज

25 मार्च, 2020 को अपडेट किया गया विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू एच ओ) ने 11 मार्च, 2020 को कोविड -19 (नोवेल  कोरोनावायरस) के प्रकोप को सर्वव्यापी महामारी घोषित किया, और डब्लू एच ओ  के अनुसार, विश्व स्तर पर मामलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय कोरोनावायरस संसाधन केंद्र इस प्रकोप की…

Read More ›

उत्तर प्रदेश पुलिस ने पत्रकार सुप्रिया शर्मा की COVID-19 से सबंधित समाचार संकलन के एक मामले की जांच शुरू की।

नयी दिल्ली, जून १८, २०२० — उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारियों को पत्रकार सुप्रिया शर्मा पर की जा रही आपराधिक जाँच को तुरंत बंद कर देना चाहिये। इसके साथ ही अपनी पत्रकारीय जिम्मेदारी का निर्वाहन कर रहे प्रेस के सदस्यों एवं पत्रकारों को को कानूनी रूप से परेशान करना बंद करना चाहिये।  उपरोक्त आधिकारिक बयान…

Read More ›